KINDLY REGISTER YOURSELF
  • Rekha (Line) Shell -  रेखा  शंख
  • Rekha (Line) Shell -  रेखा  शंख
  • Rekha (Line) Shell -  रेखा  शंख
  • Rekha (Line) Shell -  रेखा  शंख
  • Rekha (Line) Shell -  रेखा  शंख
CHAKRADHARI

Rekha (Line) Shell - रेखा शंख

SKU: RES
US $ 224.00
(Inclusive of all taxes)
रेखा शंख आसानी से नहीं मिलने के कारण बहुत ही दुर्लभ होता है। यहे एक देव्ये शंख है| Rekha shell is very rare as it is not easily found. This is a divine conch.
Made In India
More Information
- +
Availability:

Description

Rekha shell Cause and Treatment

Rekha conch is very rare as it is not easily found. This is a divine conch. Which is considered a symbol of Mahalakshmi and Saraswati. The sound of conch shell is considered auspicious. The properties of each conch shell are considered to be different. Some conch gives victory, some wealth and prosperity. Some conch shell has the power to give happiness and peace, while some have fame and fame. According to Brahmavaivarta Purana, the conch shell is the same god as the moon and the sun. Varuna in the middle, Brahma in the back and Ganga and Saraswati in the front. Worship of Rekha Shankh brings prosperity and along with attainment of Lakshmi, wealth also increases. The presence of this conch destroys many diseases.

 

Rekha Shell Mantra-

|| ॐ श्रीं ह्रीं श्रीं कमले कमलालये प्रसीद प्रसीद ॐ श्रीं ह्रीं श्रीं महालक्ष्मयै नम:।।



रेखा शंख कारण और उपचार

रेखा शंख आसानी से नहीं मिलने के कारण बहुत ही दुर्लभ होता है। यहे एक देव्ये शंख है| जो महालक्ष्मी और सरस्वती का प्रतीक माना गया है| शंख ध्वनि शुभ मानी गई है। प्रत्येक शंख का गुण अलग अलग माना गया है। कोई शंख विजय दिलाता है, तो कोई धन और समृद्धि। किसी शंख में सुख और शांति देने की शक्ति है तो किसी में यश और कीर्ति। ब्रह्मवैवर्त पुराण के अनुसार शंख चंद्रमा और सूर्य के समान ही देवस्वरूप है। इसके मध्य में वरुण, पृष्ठ भाग में ब्रह्मा और अग्र भाग में गंगा और सरस्वती का निवास है। रेखा शंख के पूजन से खुशहाली आती है और लक्ष्मी प्राप्ति के साथ-साथ संपत्ति भी बढ़ती है। इस शंख की उपस्थिति ही कई रोगों का नाश कर देती है।


रेखा शंख मंत्र-

|| ॐ श्रीं ह्रीं श्रीं कमले कमलालये प्रसीद प्रसीद ॐ श्रीं ह्रीं श्रीं महालक्ष्मयै नम:।।




Reviews


Login
Don't have an account?
Sign Up
×

Your Shopping Bag


Your shopping cart is empty.